शनिवार, 25 फ़रवरी 2012

सलामती क़ी चाहत


कुछ शब्द
कुछ भाव
अक्सर
आ-आ कर
कानों में
सरगोशियाँ
सी कर
यादों को
वादों को
थपथपा कर
सहला जाते हैं
कभी दिल
कभी दिमाग
कहीं वादें
कहीं इरादे
कभी यादों में
समेट कर
सहेजे रखने का
डगमगाता दावा
कहीं यादों संग
चाहत बनाये रखने का
पुरजोर इज़हार
क्यों ?????
याद तो
दुश्मन ने भी
किया ही होगा
सलामती क़ी
चाहत तो
बस एक तुमने ही की होगी ........
                            -निवेदिता

25 टिप्‍पणियां:

  1. याद तो
    दुश्मन ने भी
    किया ही होगा
    सलामती क़ी
    चाहत तो
    बस एक तुमने ही की होगी .......
    बहुत ही बढि़या।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर भाव संयोजन...सच ही तो हैं याद तो दुश्मन भी किया ही करते हैं मगर सलामती की चाहत तो किसी-किसी की होती है सार्थक रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो अपने होते है वही सलामती चाहते है,..
    बहुत,बेहतरीन अच्छी प्रस्तुति,सुंदर भाव की रचना के लिए बधाई,.....

    NEW POST...काव्यांजलि...आज के नेता...
    NEW POST...फुहार...हुस्न की बात...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मै समर्थक बन गया हूँ आप भी बने मुझे खुशी होगी,.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. याद तो
    दुश्मन ने भी
    किया ही होगा
    सलामती क़ी
    चाहत तो
    बस एक तुमने ही की होगी ........
    -

    बहुत अच्छा लगा आपकी प्रस्तुति पढकर.
    आपकी उनके प्रति सकारात्मक सोच दिल को भा गई.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा,निवेदिता जी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहूत हि सुंदर रचना..
    बेहतरीन भाव संयोजन:-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावों से नाजुक शब्‍द को बहुत ही सहजता से रचना में रच दिया आपने.........

    उत्तर देंहटाएं
  8. कविता का भाव बहुत ही अच्छा लगा । मेरे पोस्ट "भगवती चरण वर्मा" पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल 27/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 27-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया...
    सुन्दर भाव......

    उत्तर देंहटाएं
  12. याद तो
    दुश्मन ने भी
    किया ही होगा
    सलामती क़ी
    चाहत तो
    बस एक तुमने ही की होगी .....

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ! मन से निकली एक भावपूर्ण रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  13. हम भी कर रहे हैं सलामती की चाहत’दोनों के लिये’:)

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति सलामती पर...

    उत्तर देंहटाएं